Wednesday, April 29, 2020

Breaking news-कोविड-19(कोरोना वायरस)के दृष्टिगत वर्तमान समय में साइबर अपराधियों द्वारा की जा रही घटनाओं के सम्बंध में दिशा निर्देश/एडवाइजरी जारी

H

G

F

E

C

B

A

कोविड-19(कोरोना वायरस)के दृष्टिगत वर्तमान समय में साइबर अपराधियों
द्वारा की जा रही घटनाओं के सम्बंध में दिशा निर्देश/एडवाइजरी
1. कोविड-19 (कोरोना वायरस) के दौरान प्रदेश मे हो रहे साइबर अपराधों के प्रकार -
. ई०एम0आई0 मे छूट देने के नाम पर ठगी।
. प्रधानमंत्री केयर फण्ड के नाम पर धोखाधडी।
• फेसबुक मैसेन्जर के माध्यम से ठगी।
• ई-केवाई०सी० अपडेट के नाम पर ठगी।
• प्रोमोकोड/रिवार्ड प्वाइन्ट देने/रिडीम के नाम पर धोखाधड़ी।
• राशन वितरण/बेरोजगारी भत्ते के पंजीकरण के नाम पर ठगी।
• रोजमर्रा के सामानों की ऑनलाइन डिलीवरी के नाम पर ठगी।
• फर्जी हेल्पलाइन नम्बर के माध्यम से धोखाधडी।
• फ्री इन्टरनेट/रिचार्ज/ऑनलाइन मूवी चैनल पर पंजीकरण के नाम पर ठगी।
.. सरकारी योजनाओं सब्सिडी के नाम पर धोखाधडी।
• मेडिकल एक्सपर्ट की जानकारी देने के नाम पर धोखाधडी।
• वाहन पास के नाम पर ठगी।
उपरोक्त साइबर अपराधों का विवरण व बरती जाने वाली सावधानियाँ/कार्यवाही
2.1. ई०एम०आई० मे छूट देने के नाम पर ठगी:-
कोरोना महामारी से बचाव हेतु भारत सरकार द्वारा पूरे देश मे लॉकडाउन किया गयाहै, जिससे आम जनमानस को राहत पहुचाने हेतु सरकार/बैंकिंग संस्थानो द्वारा सभी प्रकार के लोन की किश्तों के भुगतान हेतु तीन माह की छूट प्रदान की गयी है, साइबर अपराधियों द्वारा इसका अनुचित लाभ उठाने के प्रयोजन से लोगो के मोबाइल नम्बर पर फर्जी लिंक/सन्देश प्रसारित किया जाता है, जनता द्वारा जैसे ही इन लिंक को टैप किया जाता है, उपयोग कर्ता के फोन के बैकग्राउंड मे रिमोट-ऐक्सेस ऐप जैसे टीम वीवर, एनीडेस्क, एयरड्राइड इत्यादि डाउनलोड हो जाता है, तथा फोन का एक्सेस साइबर अपराधियों के हाथ मे आ जाता है,तत्पश्चात अपराधियों द्वारा लोगो की गोपनीय जानकारी प्राप्त कर खाते से पैसे निकाल लिये जा रहे है। इस प्रकार की घटनाओं की रोकथाम हेतु जनता को सजग/सतर्क रहने की आवश्यकता है।

2.2. प्रधानमंत्री केयर फण्ड के नाम पर धोखाधडी:-
वर्तमान समय मे वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम व जनमानस के रक्षार्थ माननीय प्रधानमंत्री भारत सरकार द्वारा आम जनमानस से प्रधानमंत्री केयर फण्ड मे दान SBI
करने हेतु अपील की गयी है, जिसमे BE KIND, BE WISE ऑनलाइन पेमेन्ट करने हेतु वैध यू0पी0आई0
आई0डी0 PMCARES@UPI प्रकाशित की गयी है, परन्तु साइबर अपराधियों द्वारा प्रधानमंत्री केयर फंड की यू०पी०आई०आई0डी0 से मिलती-जुलती अनेकानेक फर्जी यू0पी0आई0 आई0डी0 जैसे prn.care@sbi,
pmcares@pnb. pmcaree@sbi, pmcaress@sbi प्रसारित कर दी गयी है। जनता द्वारा बिना पुष्टि करें इन फर्जी खातों में पैसा भेज दिया जाता है जिसकी जानकारी होने पर यह विदित होता है कि भेजी गयी धनराशि सही
स्थान पर न पहुँच कर गलत जगह पहुँच जाती है और आम जनता अपराधियों का शिकार होती जा रही है।
इस प्रकार के मामलों में प्राप्त फर्जी यू0पी0आई0 आई0डी0 के बारें मे एन0पी0सी0आई0 से सम्पर्क कर उक्त आई0डी0 के धारक के बारे मे जानकारी कर अग्रेतर कार्यवाही किया जाय।
2.3. फेसबुक मैसेन्जर के माध्यम से ठगी:-
___ वर्तमान समय मे साइबर अपराधियों द्वारा सर्वप्रथम फेसबुक से लोगो के प्रोफाइल से उनका फोटो, जन्मतिथि, मोबाइल नम्बर, ई-मेल चुराकर प्रोफाइल के समानान्तर एक नई फेसबुक आई0डी0 फर्जी तरीके से बना ली जाती है । प्रायः यह भी देखने में आया है कि अपराधियों द्वारा फेसबुक आई0डी0 का एक्सेस प्राप्त करने के लिए चुराये गये मोबाइल नम्बर, जन्मतिथि, को यूजर आई0डी0 व पासवर्ड के रूप में प्रयोग किया जाता है, सामान्यतः जिन फेसबुक प्रोफाइल का पासवर्ड प्रोफाइल मे रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर व जन्मतिथि होता है तो उन प्रोफाइलो का एक्सेस अपराधियों द्वारा प्राप्त कर लिया जाता है, तदुपरान्त दोनो स्थितियों मे उन प्रोफाइल मे जुड़े मित्रों से एक्सीडेन्ट व अन्य बीमारी का हवाला देकर पैसे की मांग की जाती है और कुछ मित्रों द्वारा पैसा भेज भी दिया जाता है। बाद में पता चलता है कि
वह साइबर अपराध का शिकार हो गये है। इस प्रकार के प्राप्त प्रकरणों मे यदि पीडितपक्ष के फेसबुक प्रोफाइल के समानान्तर प्रोफाइल बनाकर घटना कारित की गयी है, तो फेसबुक से जानकारी प्राप्तकर तथा यदि
पीड़ित की प्रोफाइल को हैक किया गया है तो पीड़ित के प्रोफाइल से डेटा डाउनलोड कर
अग्रेतर कार्यवाही की जा सकती है।
2.4. ई-के0वाई0सी0 अपडेट के नाम पर ठगी:-
साइबर अपराधियों द्वारा वर्तमान समय र W-IPAYTM मे इस प्रकार के अपराधों को अंजाम दिया जा
Delata
Handry.JanuarMM
Dear Paytm customer your Paytm
KYC has expire today immediately
please contact customer cars
ZA6614225 Inmachetely your
Paytm acount book 24bre
THANICS paytm.
<as
-
BP.MPYIM.
thoomoryou will get 1206
cushock In your wallat, To pot
Cashback ctiak' Unk मोबाइल पर कॉल व मैसेज के माध्यम से बैंक
के खाताधारकों व ऑनलाइन पेमेन्ट ऐप के यूजर्स को फोन व मैसेज करके यह हवाला दिया जाता है कि आपके खाते मे के0वाई0सी0 अपडेट न होने के कारण || खाता/वॉलेट बन्द होने वाला है। जानकारी के  अभाव मे लोग अपराधियों को अपने बैंक खाते की सारी जानकारी दे देते है और अपराधियों द्वारा उक्त जानकारी के माध्यम से लोगो के खाते
से पैसे हस्तान्तरित कर लिया जाता है। बैंको द्वारा कभी भी किसी व्यक्ति को इस तरह की सूचना नहीं दी जाती है।
ऐसे मामलों मे मैसेज मे दिये गये मोबाइल नम्बर के धारक का नाम व पता तथा लिंक की जानकारी डोमेन रजिस्ट्रार से प्राप्त कर अग्रिम कार्यवाही किया जाय।
2.5. प्रोमोकोड/रिवार्ड प्वाइन्ट देने/रिडीम के नाम पर धोखाधडी:-
साइबर अपराधियों द्वारा आम जनमानस के मोबाइल नम्बरो पर प्रोमोकोड
Answer 4 Questions
Win 1000 paytm cash. को अत्यधिक मात्रा में प्राप्त करने win-reward-cash.in वैलेट/खाते में मौजूद रिवार्ड प्वाइन्ट को पैसे i jaldi se open karo isko.... मे कन्वर्ट व प्रयोग करने का हवाला देने वाले Sirf 4 Question ke sahii Javab सन्देश को प्रसारित किया जाता है, और जैसेdene par mil raha hai 1000 paytm
ही लोगो द्वारा लिंक को टैप किया जाता है, तो cash.....mere ko to mil gya hal...tum bhii try krloउनके फोन का एक्सेस रीमोट कन्ट्रोल एप जैसे-टीम वीवर, एनीडेस्क, एयरड्राइड
http://win-reward-cash.in 1911 PM
इत्यादि के माध्यम से लेकर खाते से पैसा निकाल लिया जाता है। कुछ स्थिति मे रिवार्ड प्वाइन्ट को रिडीम कराने का हवाला देते समय अपराधियों द्वारा यह कहा जाता है कि आपको ओटीपी वेरीफिकेशन कराना पड़ेगा जानकारी
के अभाव मे लोगो द्वारा बैंक ट्रांसेक्शन की ओटीपी अपराधियों को प्रदान करा दी जाती है, इस
तरह लोग अपराध का शिकार होते जा रहे हैं।
2.6. राशन वितरण/बेरोजगारी भत्ते के पंजीकरण के नाम पर ठगी:-
भारत सहित पूरे विश्व में फैली प्रधानमंत्री रोजगार झटा योजना 2020 में अपना रजिरेशन में बीमा प्रति लीट
कोरोना महामारी के दृष्टिगत भारत | बेरोजगारों को 3500 रूपये हर महीने दिया जाएगा रजिस्ट्रेशन करने के लिए निचे दिए गए किया क्लिक कर अपना फॉर्म को सरकार द्वारा आम जनता को मुफ्त
राशन वितरण व मजदूरों को बेरोजगारी आवेदन शुल्क : 00 Rs
योग्यता - 10वी पास
भत्ते दिये जाने का ऐलान किया गया है, मयु - 18 से 40 वर्ष
जिस पर साइबर अपराधियो द्वारा फर्जी रजिस्ट्रेशन की लास्ट डेट - 5 अप्रैल 2020
वेबसाइट बनाकर लोगो का रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन रजिस्टेशम यहां से करें - http://bit.y/pradharmart-verjgar-brate-
किया जा रहा है, इस दौरान अपराधियों Lama द्वारा लोगो से रजिस्ट्रेशन फीस के नाम पर अपने खातों में पैसा डलवा लिया जा रहा है साथ ही ऐसी स्थिति मे लोगो से रजिस्ट्रेशन पूरा कराने के लिए मोबाइल पर भेजे गये ओटीपी की मांग
करते है जो वास्तव मे उनके खाते से किए जा रहे बैक ट्रांजेक्शन की ओटीपी होती है, इस प्रकार लोग साइबर अपराध का शिकार होते जा रहे है। ऐसे प्रकरणों में प्राप्त बैक खाताधारक का नाम-पता तथा फर्जी वेबसाइट के डोमेन
रजिस्ट्रार से जानकारी प्राप्त कर अग्रिम कार्यवाही की जा सकती है।
2.7. दैनिक उपयोग के सामानों की ऑनलाइन डिलीवरी के नाम पर ठगीः-
कोरोना महामारी से बचाव हेतु समूचे भारत मे लॉकडाउन लागू है जिससे आम जन-
मानस को दैनिक उपयोग के सामानों की खरीददारी हेतु बाहर निकलने मे काफी समस्या हो
रही है, इसका अनुचित लाभ उठाने के प्रयोजन से साइबर अपराधियों द्वारा मोबाइल नम्बर पर
मैसेज, व्हाट्सएप, फेसबुक व अन्य सोशल प्लेटफार्म पर यह भ्रामक खबर फैलायी जा रही है
कि हमारी वेबसाइट/दकान से दैनिक उपयोग के सामानो जैसे फल, सब्जी, राशन, दूध
इत्यादि सामानों की डिलीवरी उचित मूल्यों पर की जा रही है। जिसकी लिए लोगो से प्री-
ऑनलाइन पेमेन्ट लेकर लोगो को झांसा दिया जा रहा है और दैनिक उपयोग के सामानों की
आपूर्ति नहीं की जा रही है। तत्पश्चात यह ज्ञात होता है कि यह व्यवस्था फर्जी है।
2.8. फर्जी हेल्पलाइन नम्बर के माध्यम से धोखाधडी:- 
साइबर अपराधियों द्वारा ऑनलाइन सेवाएं प्रदान करने वाली कम्पनियाँ जैसे
फ्लिपकार्ट, अमेजन, मिन्ता, पेटीएम, गूगल-पे, स्वीगी, जोमैटो इत्यादि व सरकारी

विभाग/कम्पनियों के नाम से गूगल का एडिट फीचर व एडवरटाइजर की मदद से फर्जी ब्लॉग
बनाकर इनके कस्टमर केयर का नम्बर प्रसारित किया जाता है जो करटमर केयर का नम्बर
न होकर साइबर अपराधी का मोबाइल नम्बर होता है, आम जनमानस द्वारा किसी समस्या के
समाधान हेतु जब सम्बन्धित कम्पनी के कस्टमर केयर का नम्बर गूगल पर सर्च किया जाता है
तो अपराधी का ही नम्बर ब्लॉग पर मिलता है, जिसपर ये लोग वार्ता कर लोगो से उनकी बैंक
की व्यक्तिगत जानकारी व ओटीपी प्राप्त कर लेते है तथा खाते से पैसा उड़ा देते है।
इस प्रकार के प्रकरणों मे गूगल से सम्पर्क करके एडवरटाइजर की जानकारी की जाए
तथा एडवरटाइजर के माध्यम से प्राप्त जानकारी के आधार पर प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित
किया जाए।
2.9. फ्री इन्टरनेट/रिचार्ज/ऑनलाइन मूवी चैनल पर पंजीकरण के नाम पर ठगीः-
साइबर अपराधियों द्वारा सोशल मीडिया व फोन मैसेज के द्वारा आम जनमानस के पास मैसेज भेजकर यह
भ्रामक खबर फैलायी जा रही है कि भारत सरकार द्वारा कोरोना वायरस के चलते सभी को फ्री रिचार्ज व इण्टरनेट
की सुविधा तथा ऑनलाइन मूवी चैनल जैसे अमेजन प्राइम वीडियो, नेटफ्लिक्स को तीन माह तक फ्री करने का
फैसला लिया गया है इसका लाभ उठाने के लिए आपको लिंक पर टैप करके फार्म को भरकर ओटीपी वेरीफिकेशन
Jio इस कठिन परिस्थिति में दे रहा है सभी इंडियन यूजर को 1498 सपए का फ्री रिचार्ज.तो अभी नीचे
दी गई लिंक पर क्लिक करके अपना ती रीचार्ज प्राप्त करें
wir https://liorechargonew.online
कृपया ध्यान के:
यह ऑफर केवल 31 MARCH तक ही सिमित है।
4:16PM
कराना होगा, जिस फार्म को अपराधियो द्वारा आपसे भराया जाता है वह वास्तव में आपके
बैंक ट्रांजेक्शन से जुड़ी जानकारी का होता है। इसी जानकारी के माध्यम से अपराधियों द्वारा
लोगो के खाते से पैसे निकाल लिये जाते हैं।
ऐसे मामलों मे फर्जी लिंक के डोमेन रजिस्ट्रार से जानकारी प्राप्त कर अग्रिम कार्यवाही की जा
सकती है।
2.10. सरकारी योजनाओ व सब्सिडी के नाम पर धोखाधड़ी
साइबर अपराधियों द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर लोगो को आवास का
पैसा दिलाने हेतु रजिस्ट्रेशन व क्लियरेन्स के नाम पर खाते में पैसा डलवा लिया जा रहा है।
वर्तमान समय में कोरोना वायरस से देश मे आयी समस्या से देश के नागरिकों को राहत देने
के लिये भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री जनधन योजना के अन्तर्गत खुले खातों में महिलाओं को
500 रूपये की सहायता, व प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अन्तर्गत गैस कनेक्शन पर तीन
माह के लिए फ्री गैस सिलिण्डर प्रदान किया जा रहा है। उक्त योजनाओं व सरकार के इस
फैसले का अनुचित लाभ उठाने के उद्देश्य से साइबर अपराधियों द्वारा उक्त योजनाओं का
लाभ प्राप्त कराने के लिए लोगो से उनके खाते, एटीएम व अन्य व्यक्तिगत जानकारी फोन
मैसेज व लिंक के माध्यम से प्राप्त कर साइबर अपराध का शिकार बनाया जा रहा है।
2.11. मेडिकल एक्सपर्ट की जानकारी देने के नाम पर धोखाधडी:-
वर्तमान समय में फैले कोरोना महामारी के दृष्टिगत । भारत सरकार द्वारा देश के नागरिकों को इस
महामारी से बचाव व जागरुक करने के लिए मेडिकल एक्सपर्ट के टॉल-फ्री नम्बर जारी किये
गये है, जिसपर साइबर अपराधियों द्वारा सोशल मीडिया पर मेडिकल एक्सपर्ट की जानकारी देने के
नाम पर फर्जी लिंक बनाकर प्रसारित किया जा रहा है, इस महामारी के प्रकोप को देखते हुए अनेक
लोग इस प्रकार के लिंक को खोलने में हिचकिचा नही रहे है, और लिंक के सही-गलत के विचार
किये बिना लिंक को खोलते ही साइबर अपराध का शिकार होते जा रहे है।
2.12. वाहन पास के नाम पर ठगी:-
कोरोना वायरस के चलते पूरे भारत मे लॉकडाउन लागू किया गया है जिससे वाहनो के
आने जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है। साइबर अपराधियों द्वारा वाहनो के पास दिलाने वाला
तमाम फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगो से रजिस्टेशन व वाहन पास फीस के नाम पर अपने
खातो में पैसा फर्जी तरीके से डलवा लिया जा रहा है।
3. उक्त प्रकार के साइबर अपराध से बचाव हेतु सामान्य दिशा निर्देश-
. कही भी किसी भी सरकारी उपक्रम वेबसाइट या फण्ड मे पैसा भेजते समय सरकार
की अधिकारिक वेबसाइट से जानकारी कर इस तरह के फ्रॉड से बचा जा सकता है।
यदि आपके बैंक खाते / इ-वॉलेट में रकम वापस किये जाने हेतु संदेश आये तो अपनी
यूपीआई आईडी /पासवर्ड न डालें क्योकि पैसा प्राप्त करते समय इसकी कोई
आवश्यकता नही होती है।
किसी प्रकार का संदिग्ध कॉल/मैसेज प्राप्त होने पर तत्काल थाने पर इसकी सूचना दें।
• वेबसाइट या लिंक पर विजिट करने से पहले उस वेबसाइट के सिक्योरिटी फीचर को
पढे तथा इस बात की पुष्टि कर ले कि वह सिक्योर है या नही उसका लाइसेन्स बैध है या नही।
ई-वॉलेट अपडेट और केवाईसी हेतु निकटवर्ती अधिकृत केन्द्र पर जाकर ही करायें।
• अपने सोशल एकाउन्ट व बैंक खातो का पासवर्ड क्लिष्ट बनायें, जिसमे अंक, अक्षर व
चिन्ह तीनों हो, साथ ही द्विस्तरीय सत्यापन लगाये रखे।
• जब आवश्यक हो तभी अपने मोबाइल के जीपीएस व ब्लूटूथ को ऑन रखें।
किसी भी प्रकार के बैंक/पेमेन्ट ऐप/ऑनलाइन शापिंग वेबसाइट इत्यादि के
हेल्पलाइन/कस्टमर केयर नम्बर को गूगल या अन्य किसी सर्च इन्जन से सर्च करके
प्राप्त न करें, बल्कि सम्बन्धित बैंक/पेमेन्ट ऐप/ऑनलाइन शापिंग वेबसाइट इत्यादि के
कस्टमर केयर का नम्बर उनकी अधिकृत बेवसाइट/ऐप से ही प्राप्त कर वार्ता किया
जाय।

Breaking news-कोविड-19(कोरोना वायरस)के दृष्टिगत वर्तमान समय में साइबर अपराधियों द्वारा की जा रही घटनाओं के सम्बंध में दिशा निर्देश/एडवाइजरी जारी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Updatemarts

No comments:

Post a Comment